भूल कर भी न रखें मोबाइल में ये चीजें, हो सकती है जेल

0

ज़ेडेक्स न्यूज़: आज कल स्मार्टफोन का प्रयोग एक आम बात है लेकिन कई बार जाने-अनजाने में लोग कुछ ऐसे एप्लीकेशन डाउनलोड कर लेते हैं जिनकी वजह से उन्हें कई तरह की मुसीबतों का सामना करना पड़ सकता है, यहां तक कि उन्हें जेल की हवा भी खानी पड़ सकती है।

Copyright Holder: ZedEx News

आमतौर पर लोग गलत वीडियो और साहित्य को देखने के लिए इंटरनेट पर विभिन्न वेबसाइटों को खोलते हैं। कई बार उन्हें उन वीडियो को डाउनलोड करने के लिए किसी खास एप्लीकेशन को डाउनलोड करने के लिए कहा जाता है।

Copyright Holder: ZedEx News

लोग भोग विलास और आवेश में आकर बगैर सोचे समझे उन एप्लीकेशन को डाउनलोड कर लेते हैं। कई बार वह वह ऐप चोरी छुपे खुद ही लोगों के मोबाइल में इंस्टॉल हो जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस एक एप्लीकेशन की वजह से ही आप सलाखों के पीछे पहुंच सकते हैं।

भारतीय दंड संहिता की धारा 67 और आईटी अधिनियम 2008

के मुताबिक अगर आप किसी भी प्रकार के कामुक पोर्न मैटेरियल प्रचार प्रसार करते हैं तो आपको 3 साल तक की सजा सुनाई जा सकती है। इसके अलावा अगर आप 18 साल के हैं और ऑनलाइन अपनी या किसी अन्य अश्लील तस्वीरों को भेजते हैं तब भी आपको अव्यवस्था फैलाने का दोषी माना जाएगा और इसके लिए आपको धारा 67 सेक्शन बी के तहत 5 साल की सजा सुनाई जा सकती है।

भारतीय संविधान में चाइल्ड पॉर्नोग्राफी और छेड़छाड़ जैसी प्रवृत्तियों को कानूनन अपराध माना गया है और अगर आपके पास इस तरह की कोई भी वीडियो या साहित्य पाया जाता है तो आपको 10 साल से ज्यादा कारावास की सजा सुनाई जा सकती है। सरकार ने इसी संबंध में 1000 से ज्यादा वेबसाइट और उनके आईपी ऐड्रेस ब्लॉक किए हैं।

मोबाइल अपराध के बारे में क्या कहते हैं विशेषज्ञ

इंटरनेशनल डाटा कारपोरेशन (IDC) की माने तो ऐसी वेबसाइटों पर मौजूद ज्यादातर मोबाइल ऐप स्पैम और फेक होते हैं। यानी ये वो एप्लीकेशन होते हैं जिन्हें लोगों की सूचनाओं को चोरी करने के लिए बनाया जाता है। ये मोबाइल की सभी आवश्यक जानकारियों जैसे मैसेज, कॉल हिस्ट्री और कांटेक्ट नंबर इत्यादि को हैकरों तक भेजते रहते हैं जिनका किसी भी वक्त गलत प्रयोग किया जा सकता है।

Copyright Holder: ZedEx News

भारतीय दंड संहिता के मुताबिक अगर आप की जानकारियों का कहीं भी गलत प्रयोग होता है तो इसके जिम्मेदार खुद आप होंगे, और आपको सूचनाओं के गलत प्रयोग के आरोप में जेल भी भेजा जा सकता है। इसलिए सतर्क रहें और ऐसी वेबसाइटों से वीडियो और ऐप वगैरा को डाउनलोड करने से बचें, क्योंकि यह दोनों ही काम अपराध की श्रेणी में आते हैं।

क्या आप मानते है कि ऐसी चीजों पर पाबंदी लगा देनी चाहिए? अगर हां तो नीचे दिए गए लाइक और फॉलो के बटन को जरूर दबाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here