मोदी सरकार ने बन्द की हज सब्सिडी, जाने क्या कहा मुसलमानो ने

0
हज करने का तरीका

मुख़बिर न्यूज़: मोदी सरकार ने आज मुसलमानों को हज यात्रा के लिए दी जाने वाली सब्सिडी को ख़त्म करने का फ़ैसला लिया है। सरकार का मानना है कि उसने यह फैसला तुष्टिकरण को खत्म करने और मुसलमानों को सशक्त बनाने के लिए लिया है।

अल्पसंख्यक मामलों के केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नक़वी ने मंगलवार को हज सब्सिडी ख़त्म करने के सरकार के फ़ैसले की पुष्टि की। नकवी के मुताबिक आजादी के बाद पहली बार 1.75 लाख मुसलमान बिना सब्सिडी के हज करेंगे।

उन्होंने कहा कि सब्सिडी हटाने के फ़ैसले से सरकार के 700 करोड़ रुपये बचेंगे और ये पैसा अल्पसंख्यक की शिक्षा ख़ासकर लड़कियों की तालीम पर खर्च किया जाएगा। हालांकि उन्होंने यह नहीं बताया कि सब्सिडी से मुसलमानों का कितना फायदा होता था?

गौरतलब है कि भारत में मुसलमान कई सालों से सब्सिडी को खत्म करने की मांग कर रहे थे और वर्ष 2012 में सुप्रीम कोर्ट ने भी केंद्र को साल 2022 तक चरणबद्ध तरीके से हज सब्सिडी ख़त्म करने का निर्देश दिया था।

मुसलमानों के मुताबिक हज सब्सिडी के नाम पर कई वर्षों से उन्हें बेवकूफ बनाया जा रहा था। हज सब्सिडी से मुसलमानों का कोई फायदा नहीं होता था बल्कि इससे घाटे में जा रही है इंडिया को जरूर लाभ होता था और उसे एक साथ कई लाख पैसेंजर मिल जाते थे।

लंबे अर्से से मुसलमानों का एक बड़ा तबक़ा, धार्मिक संस्थाएं और असदउद्दीन ओवैसी जैसे सांसद भी इसे ख़त्म करने की मांग करते रहे हैं उनकी मांग थी कि हज के लिए यात्रियों को अपनी सुविधा के अनुसार जाने की इजाज़त होनी चाहिए।

हज सब्सिडी ख़त्म करने के फैसले के कुछ दिन पहले ही सरकार ने 45 साल से ज्यादा उम्र की महिलाओं को बिना पुरुष अभिभावक के कम से कम चार लोगों के समूह में हज यात्रा करने की इजाजत दी थी.

अल्पसंख्यक मामलों के विभाग ने पिछले साल नई हज नीति पर सुझाव देने के लिए कमिटी गठित की थी इस कमिटी के गठन के बाद मजलिस एत्तेहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष और हैदराबाद से सांसद असदउद्दीन ओवैसी ने कहा था कि “हज सब्सिडी हटा दीजिए और मुस्लिम लड़कियों की पढ़ाई के लिए खर्च कीजिए.”

हज सब्सिडी क्या है?

हर वर्ष भारत से हजारों मुसलमान सऊदी अरब हज के लिए जाते हैं. हाजियों की यात्रा के खर्च का कुछ हिस्सा सरकार सब्सिडी के रूप में मुहैया कराती है। सरकार की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक फिलहाल प्रत्येक हाजी को अपनी यात्रा के लिए एक निर्धारित रकम देनी होती हैं और हवाई यात्रा का बाकि खर्च सरकार उठाती है।

हालांकि अगर मुसलमान एयर इंडिया के अलावा किसी दूसरी फ्लाइट से सफर करते हैं तो उन्हें कम किराया देना पड़ता है ऐसे में सरकार का दावा कि वह मुसलमानों की मदद करती है निरर्थक है क्योंकि मुसलमान उतने ही पैसे में हज करके वापस आ सकते हैं

क्या हिन्दू तीर्थ यात्रा पर खत्म होगी सब्सिडी

हज सब्सिडी खत्म करने के बाद मोदी सरकार पर यह सवाल उठता है कि क्या वह हज की तरह हिंदू तीर्थयात्रियों को मिलने वाली सब्सिडी खत्म कर देगी और अगर वह ऐसा नहीं करती है इसके पीछे क्या हिंदू तुष्टिकरण का कारण नहीं होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here