बाबरी मस्जिद घटनाक्रम, जाने कब क्या हुआ

0

मुख़बिर न्यूज़: 6 दिसंबर 1992 ये दिन था जब इस देश में कानून और संविधान की धज्जियां उड़ा दी गईं। बाबरी मस्जिद पर हुआ हमला इस देश की अस्मिता पर हमला था। संघ समर्थिक लोगों की एक अनियंत्रित भीड़ ने साजिश के तहत बाबरी मस्जिद को शहीद कर दिया।

बाबरी मस्जिद का घटनाक्रम अपने आपमें एक दस्तावेज है। 28 साल के कड़े परिश्रम के बाद फैसला तो हुआ लेकिन इंसाफ मिला या नहीं ये हर किसी को पता है। आइए जानते हैं बाबरी मस्जिद के घटनाक्रम के बारे में।

1528 : मुगल शासक बाबर के कमांडर मीर बाकी ने बाबरी मस्जिद का निर्माण कराया।

1885 : महंत रघुबीर दास ने फैजाबाद जिला अदालत में याचिका दायर कर विवादित ढांचे के बाहर छतरी के निर्माण की अनुमति मांगी। अदालत ने याचिका खारिज कर दी।

1949 : विवादित ढांचे के बाहर केंद्रीय गुंबद में जबरदस्ती मूर्तियां स्थापित कर दी गयी

1950 : मूर्तियों की पूजा का अधिकार हासिल करने के लिए गोपाल सिमला विशारद ने फैजाबाद जिला अदालत में याचिका दायर की।

1950 : परमहंस रामचंद्र दास ने पूजा जारी रखने और मूर्तियां रखने के लिए याचिका दायर की।

1959 : निर्मोही अखाड़ा ने जमीन पर अधिकार दिए जाने के लिए याचिका दायर की।

1961 : उत्तरप्रदेश सुन्नी केंद्रीय वक्फ बोर्ड ने स्थल पर अधिकार के लिए याचिका दायर की।

1 फरवरी, 1986 : स्थानीय अदालत ने सरकार को पूजा करने के मकसद से बाबरी को हिन्दू श्रद्धालुओं के लिए खोलने का आदेश दिया।

14 अगस्त, 1989 : इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने बाबरी मस्जिद के संबंध में यथास्थिति बनाए रखने का आदेश दिया।

6 दिसंबर 1992 : बाबरी मस्जिद ढांचे को ढहाया गया।

30 सितंबर 2010 : उच्च न्यायालय ने 2:1 के बहुमत से विवादित क्षेत्र को सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और रामलला के बीच तीन हिस्सों में बांटने का आदेश दिया।

9 नवंबर 2019 : उच्चतम न्यायालय ने अयोध्या में पूरी 2.77 एकड़ विवादित भूमि रामलला को दी। केन्द्र और उत्तरप्रदेश सरकार को मस्जिद के निर्माण के लिए किसी प्रमुख स्थान पर पांच एकड़ जमीन मुसलमानों के देने का भी निर्देश दिया।

9 मई 2011 : उच्चतम न्यायालय ने अयोध्या जमीन विवाद में उच्च न्यायालय के फैसले पर रोक लगाई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here