चीनी सेना ने की फिर घुसपैठ , चरवाहों को दी धमकी

0
चीन

नई दिल्ली । कुछ महीनों से भारत-चीन में मध्य पनपे तनाव से दोनों देशों के मध्य स्थ्तियाँ काफी नाजुक बनी हुई है दोनों देशो के फौजें आमने सामने है | वही चीनी सेना भी लगातार भारतीय सरहदों में घुसपैठ कर स्थति को और भी चिंताजनक बनाने में लगी लगी | ताजा मामला उत्तराखंड के जिला चमोली का है जहाँ चीनी सैनिक भारतीय क्षेत्र में एक किलोमीटर अंदर तक प्रवेश गए।

ख़ास बातें

1 चीन और भारत के मध्य गतिरोध जरी 
2 चीनी सैनिकों ने भारतीय क्षेत्रों में फिर की घुसपैठ 
3 उत्तराखंड के चमोली में हुई घटना

प्राप्त सूत्रों के मुताबिक चीनी सैनिकों ने उत्तराखंड के जिले चमोली के क्षेत्र बारह हुती में पशुओं को चारा चराने वाले चरवाहों को भी धमकाया। कुछ अधिकारियों ने अपनी पहचान गुप्त रखने की शर्त पर बताया कि सीमा घुसपैठ की यह घटना 25 जुलाई को सुबह उस वक्त हुई जब चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के सैनिकों ने चरवाहों के एक समूह को इस स्थान को खाली करने की धमकी दी |

याद रहे कि सिक्किम के पास डोकालम में भारत और चीन की सेनाओं के बीच लंबे समय से जारी गतिरोध के बीच यह घटना घटी है। बारह हूति, उत्तराखंड की राजधानी देहरादून से 140 किलोमीटर की दूरी पर 80 वर्ग किलोमीटर में फैली एक ढलानी क्षेत्र है, जहाँ पर एक सीमा चौकी मौजूद है जिसे उत्तर प्रदेश, हिमाचल परदेश और उत्तराखंड का मध्य सेक्टर भी कहा जाता है।

पढ़ें – मुस्लिम सैनिक के नमाज़ पढ़ने के दौरान हिंदू सिपाही का पहरा

अधिकारियों ने मुताबिक यह एक असैनिक जोन है जहां इंडो-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के जवानों को अपने साथ हथियार लाने की भी अनुमति नहीं है। गौरतलब रहे कि भारत और चीन ने 1958 में बारह हुई को एक ऐसा विवादास्पद क्षेत्र घोषित किया था जहां इन दोनों में से कोई भी अपनी देश की सेनायें नहीं भेज सकता है । 1962 के युद्ध में भी चीन के सैनिक इस मध्य सेक्टर में प्रवेश नहीं हुए थे और पश्चिमी (लद्दाख) और पूर्वी (अरुणाचल प्रदेश) इलाकों पर ही अपना ध्यान केंद्रित किया था।

पढ़ें – चीन ने किया सैन्य परेड में परमाणु मिसाइल का शक्ति प्रदर्शन

सीमा विवाद के हल के लिए की गयी वार्ता के दौरान भारत जून 2000 में एकतरफा तौर पर इस बात से सहमत था कि आईटीबीपी के सिपाही तीन चौकियों बारह हुई, कोरल और शपकी (हिमाचल प्रदेश) में हथियार नहीं ले जाएंगे। आईटीबीपी के सिपाही बारह हुई साधारण कपड़ों में पैट्रोलिंग करते हैं यही पर सीमावर्ती गाँव के चरवाहे अपने बकरियों को चराते रहते है |

चीन सीमा विवाद को लेकर दोनों देशो के मध्य स्थितियां पिछले कुछ महीनों से बड़ी ही नाजुक बनी हुई है | हालाँकि इस घुसपैठ पर भारत सरकार की तरफ से कोई बड़ा बयान नही आया है और टीवी डिबेट में पाकिस्तान में सर्जिकल स्ट्राइक करने वाले एंकर भी खामोश नजर आ रहे है | प्राप्त सूत्रों के अनुसार सरकार की कोशिस है कि इन मुद्दों को वार्ता के जरिये ही सुलझाया जाये |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here