भूख की वजह से कई गायों की मौत , गौरक्षक नदारद

0
गौरक्षक

गोदावरी: इस देश में गायों (एक जानवर) से इतना प्रेम है कि उसके लिए इंसानों की जाने भी ली जा सकती है इंसानियत का कत्ल भी किया जा सकता है और अगर किसी पर शक ही हो जाये तो उसे शक के शुबे में ही चौराहे पर खड़ा कर के या अख़लाक़ की तरह घर में घुस कर हमेशा हमेश के लिए मौत की नींद सुलाया जा सकता है | लेकिन ये गौ-प्रेम तभी तक है जब तक कि सामने जिसे पीटा जा रहा है वो मुसलमान हो |

ख़ास बातें

1 गोदावरी में भूख से 14 जानवरों की मौत 
2 मरने वालों में कई गायें थी शामिल 
3 फ़िलहाल गौ रक्षकों का कोई सुराग नही

वरना गौ प्रेम की मिसाल यूँ भी दी जा सकती है कि  आंध्रप्रदेश के गोदावरी जिले में शेल्टर के अंदर चारे की कमी के सबब कई जानवर जिनमें गएँ भी शामिल थी , मौत की नींद सुला दी गयी लेकिन किसी भी गौरक्षक की जुबान भी न खुली और न ही उनकी देख रेख करने वालों या फिर उसके मालिक को मौत की सजाये सुनाई गयी | खैर ये सब तो बाद की बात है लेकिन क्या इन गौ रक्षकों के गरेबां में हाथ डाल कर ये सवाल नही किया जाना चाहिए कि आखिर तुम्हारे होते हुए भी इस देश में तुम्हारे अपने इलाके में इन गायों की मौत कैसे हो गयी ?

खैर दीगर बातें बाद में लेकिन देश में मुल्क में गौरक्षा उफान पर है और शायद यही वजह है कि अगर कोई गाय अगर मर भी जाती है तो  उसे मुसलमान और दलित हाथ लगाने को तैयार नही है या यूँ कहिये कि देश के गौरक्षको के जरिये गाय  अछूत बना दी गयी है |

हिंदुस्तान टाइम्स से बात करते हुए संयुक्त निदेशक वी वेंकटेश्वर रैना कहा ” हमें चौदह मृत पशुओं के शव मिले हैं जिनकी शायद  मंगलवार को मौत हो गयी है । जबकि चार जानवर बुधवार को मारे गए हैं | यहाँ पर चारे और पानी की भारी कमी होने की वजह से जानवरों का यह हाल हुआ है | दुरुस्त आहार और पानी की कमी के कारण बकिया  जानवरों की हड्डियां दिख रही हैं ‘यहाँ तक उन्हें इंजेक्शन या कोई तरल पदार्थ भी नहीं दिया जा सकता है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here