दाढ़ी रखे मुस्लिम पुलिस कांस्टेबल की हुई पिटाई

0
arif ismail shaikh mob attack in gujrat

मुख़बिर न्यूज़: बीजेपी शासन आने के बाद देश में मॉब लिंचिंग की घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रही हैं। ताजा मामला गुजरात के वडोदरा में एक मुस्लिम पुलिसकर्मी से जुड़ा हुआ है जिसे उसकी धार्मिक पहचान के चलते पीटा गया। पीड़ित मुस्लिम पुलिस कांस्टेबल आरिफ इस्माइल शेख वडोदरा रूलर मुख्यालय में तैनात है जिन्हें कल मॉब लिंचिंग का निशाना बनाया गया।

खबरों के मुताबिक इस्माइल शेख जब ड्यूटी से अपने घर लौट रहे थे उस वक्त मामूली बात पर स्थानीय लड़कों से कहासुनी हो गई इसके बाद उन चारों लड़कों ने आरिफ शेख की पिटाई शुरू कर दी इस दौरान व पुलिस की वर्दी में थे। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक हमलावरों ने उनकी दाढ़ी भी खींची और उन्हें अपशब्द भी कहे।

हालांकि आरिफ इस्माइल से पानी गेट पुलिस स्टेशन में अपनी शिकायत दर्ज कराई है जिसके आधार पर तीन हमलावरों को गिरफ्तार कर लिया गया है। घटना की जिम्मेदारी पानी गेट पुलिस थाने के पुलिस स्पेक्टर राठवा को सौंपी गई है हालांकि मुस्लिम पुलिस कांस्टेबल के साथ होने वाली इस घटना से इलाके में काफी तनाव का माहौल है। लोगों का कहना है कि जिस देश में एक मुसलमान पुलिसवाला सुरक्षित नहीं वहां पर आम मुसलमानों की सुरक्षा की गारंटी कैसे ली जा सकती है।

मुस्लिम होने की मिली सज़ा

आरिफ ने अपनी शिकायत में अपनी धार्मिक पहचान की वजह से मारपीट का होना बताया है ।उन्होंने लिखा है कि वह मुस्लिम थे इस वजह से उनके साथ मारपीट और मॉब लिंचिंग की कोशिश की गई। हमलावरों ने ना सिर्फ आरिफ शेख को मारा बल्कि उन्हें जान से मारने की धमकी दी। फिलहाल इस सिलसिले में अभी तक 3 लोग गिरफ्तार किए गए हैं लेकिन देखना यह होगा कि क्या उन्हें सजा मिलती है या नहीं।

गौरतलब है कि पिछले 2 वर्षों में भारत में सबसे अधिक मॉब लिंचिंग की घटनाएं हो चुकी है जिसकी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी काफी आलोचना हो चुकी है लेकिन फिर भी केंद्र सरकार इस तरह के कृत्य को रोकने के लिए कोई कानून या बिल पास नहीं कर सकी है। मॉब लिंचिंग करने वालों में से अभी तक किसी भी आरोपी को कड़ी सजा नहीं मिली है जिससे इस तरह की घटनाओं पर लगाम लगाई जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here