भारत का सेक्युलरिज्म तो मुसलमान बचाते है !

बाबर खान

0
मुसलमान
Chandigarh: Indian Muslims offer prayers during Eid al- Adha outside the mosque in sector 20 in Chandigarh on Tuesday September 13, 2016.photo Dinesh Bhardwaj

हाल के दिनों में बिहार की राजनीती और नितीश कुमार के फैसले ने जिस तरह से करवट ली है उसे देखकर तो अंदाजा लगाया जा सकता है की बिहार में अगली सरकार जदयू बीजेपी गठबंधन की बनेगी। खैर इसमें कोई नही बात भी नही है क्योंकि इस गठबंधन ने पहले भी सरकार बनाई है पर सवाल ये रह जाता है की उनका क्या जिन्होंने सेकुलरिज्म बचाने के नाम पर नितीश को वोट दिया था? क्या वो एक बार फिर ठग लिए जायेंगे? संघ मुक्त भारत अभियान चलाने वाले नितीश क्या कहेंगे अब इसपर?

ये भी पढ़ें – नीतीश कुमार ने बिहार की जनता के साथ किया विश्वासघात : मायावती

मेरा शुरू से ये मानना रहा है की भारत में सेकुलरिज्म सिर्फ मुसलमान बचाता है बाकि लोग कुर्सी के लिए इसे सिर्फ इस्तेमाल करते हैं और अब तो मुस्लिमो को भी ये शिकायत नही करनी चाहिए की सारी सियासी पार्टियां सिर्फ इस्तेमाल करती हैं, भाई आप इतने आसानी से इस्तेमाल हो जाते हो तभी तो सब इस्तेमाल कर लेते हैं आपको वरना और किसी को क्यू नही कोई इस्तेमाल कर लेता? आपने हमेशा सिर्फ सेकुलरिज्म बचाने के नाम पर अपने वोट फोकट में बाँट दिए, कभी भी आपने अपना कोई मसला ही नही बनाया । आपको सड़क स्कूल हॉस्पिटल रोजगार से कुछ लेना देना है ही नही आप सिर्फ बीजेपी को हराओगे । जब सब आपकी कमजोरी जानते हैं तो क्यू नही फायदा उठाएंगे उसका? कौन ऐसे मौके छोड़ता है? अब आपको खुद सोचना होगा की आपके लिए सही कौन है और गलत कौन बल्कि मैं तो अब भी यही कहूँगा की आप इस बात को मान लो की बिना सियासी ताक़त के आपका कोई वजूद नही फिर भी देखना अब ये है की आप जदयू के पांच मुस्लिम विधायक और एक मुस्लिम सांसद से सवाल करते हैं या फ्री में फिर अपना वोट किसी को सेकुलरिज्म बचाने के नाम पर दे देंगे।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here