पीएम साहब खबर लीजिये हिन्दुस्तान बह रहा है

0

नई दिल्ली। देश में हुई भारी वर्षा और फिर नेपाल से छोड़े जाने वाले पानी ने हिंदुस्तान के किस राज्य में अपना कहर दिखाना शुरू कर दिया है लगभग 35,00000 से ज्यादा लोग इस वक्त सड़कों पर अपनी जिंदगी व्यतीत कर रहे हैं । बिहार और पश्चिम बंगाल में बाढ़ की स्थिति में कोई सुधार नहीं हुआ। वहाँ से और लोगों की मौत की खबरें आईं। असम में 11 और लोगों की मौत हुई जिसमें से मौतों की संख्या 39 हो गई। राज्य के कुल 32 जिलों में से 24 में लगभग 33.45 लाख लोग प्रभावित हुए हैं। बिहार में अब तक 72 लोगों की मौत हो जाने के साथ बाढ़ से 14 जिलों की 73.44 लाख आबादी प्रभावित हुई है।

ये कैसा मामला है कि एक इलेक्शन के लिए सैकड़ों हेलीकॉप्टर उतार उतार देने वाली सरकार आपदा प्रबंधन के लिए चीजें मुहैया नहीं करवा पा रही है यही हाल बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का है जिनके सुशासन और शासन के दावे इस वक्त नेपाल के जरिए छोड़े गए पानी में बहते हुए दिखाई दे रहे हैं ।

बिहार के आपदा प्रबंधन विभाग के विशेष सचिव अनिरुद्ध कुमार के मुताबिक् बाढ़ प्रभावित राज्य के 14 जिलों किशनगंज, अररिया, पूर्णिया, कटिहार, पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, दरभंगा, मधुबनी, मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी, शिवहर, गोपालगंज, सुपौल और मध्य पूरा में सबसे अधिक 20 लोगों अररिया में सीतामढ़ी में 11, पश्चिमी चंपारण में 9, किशनगंज में 8, मधुबनी और पूर्णिया में 5-5, मधेपुरा और दरभंगा में 4-4, पूर्वी चंपारण में 3, शिवहर 2 और सुपौल में एक व्यक्ति की मौत हुई है।

सिर्फ बिहार की बात करें तो बाढ़ के कारण इन 14 जिलों के 110 विभाजन और 1151 पंचायत क्षेत्र प्रभावित हुए हैं और कुल 73.44 लाख आबादी प्रभावित हुई है।

राज्य सरकार द्वारा बाढ़ में घिरे लोगों को सुरक्षित निकाले जाने के काम को युद्ध स्तर पर भले रेखांकित किया जा रहा है लेकिन स्थतियां कुछ और ही है । हालाँकि अब तक 2.74 लाख लोगों को बाढ़ प्रभावित क्षेत्र से सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है और 504 राहत शिविरों में 1.16 लाख व्यक्ति शरण लिए हुए हैं।

कल मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के साथ बाढ़ प्रभावित बेतिया और वाल्मीकि नगर हवाई सर्वेक्षण करने वाले थे, लेकिन खराब मौसम की वजह से वह उड़ नहीं कर सके। वे बाढ़ की स्थिति और बाढ़ पीड़ितों के लिए चलाए जा रहे राहत और बचाव कार्यों की निगरानी और इसके बारे में उच्च अधिकारियों से जानकारी प्राप्त करने के साथ आवश्यक निर्देश देते रहे।

वहीं पश्चिम बंगाल की बात करें तो राज्य में बाढ़ से कम से कम 32 लोगों की मौत हो गई और 14 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं। उधर, राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि बाढ़ से प्रभावित लोगों को राहत पहुंचाने उनकी सरकार की पहली प्राथमिकता है हालांकि प्राथमिकताएं क्या है इसका अंदाजा आम जन को खूब है ।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here