RSS के मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के किया कुर्बानी का विरोध, कहा गैर इस्लामी है ये

0
कुर्बानी

लखनऊ :केंद्र में बीजेपी हुकूमत आने के बाद गौरक्षा के नाम पर मुसलमानों की हत्यायों और खानपान जैसी चीजों पर पाबंदी के बाद RSS की मुस्लिम राष्ट्रीय मंच विंग ने एक नया शगूफा जारी किया है । RSS के जरिए संचालित किए जाने वाले इस संगठन के यूपी प्रभारी ठाकुर राजा रईस ने एक बयान जारी करते हुए कहा है की कुर्बानी इस्लाम का हिस्सा नहीं है और जो लोग ऐसा कर रहे हैं वो इस्लाम विरोधी है ।

RSS की मुस्लिम विरोधी नींद को धार देते हुए राजा रईस ने कहा कि जब हजरत इब्राहिम के जरिए किसी जानवर की कुर्बानी नहीं दी गई तो मुस्लिम समाज इस कुरीति को क्यों बढ़ा रहा है । उन्होंने तर्क दिया की मोहम्मद साहब ने हर जानदार पेड़ पौधे जानवर और इंसानों को अल्लाह की रहमत करार दिया है इसलिए इसे देखते हुए मुसलमानों को जानवरों की कुर्बानी से बचना चाहिए लेकिन जब उनसे पूछा गया कि इस फरमान के मुताबिक पेड़ पौधों में जान होती है तो क्या सब्जियां भी न खानी चाहिए इस पर वह कोई जवाब ना दे सके ।

अवध प्रांत के संयोजक सैयद हसन कौशर ने गाय की कुर्बानी को हराम करार देते हुए बताया कि मुसलमानों को इससे बचना चाहिए लेकिन जब उनसे सवाल किया गया कि प्रदेश और देश में गाय की कुर्बानियो पर पहले से ही पाबंदी है और मुसलमान हमेशा से इससे बचते आए हैं तो वह खामोशी से बात को टाल गए ।

याद रहे कि RSS इस वक्त मुस्लिम समाज की कुरीतियों को खत्म करने के नाम पर मुसलमानों के धार्मिक मामलों में दखल अंदाजी कर रहा है वहीं दूसरी तरफ जमीयत उलमा हिंद ने ईद उल अजहा पर कुर्बानी को वाजिब करा देते हुए इसे ईमान का खास हिस्सा करार दिया है और सरकार से इस मौके पर सुरक्षा सुनिश्चित करने की मांग की है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here