तुर्की की डांट पर सू-की ने खोली जुबान, कहा हम चरमपंथियो को रोकने की कोशिस कर रहे

0

दुनिया : चौतरफ़ा आलोचना झेलने के बाद म्यांमार की नेता आन सान सूकी ने आख़िरकार बौद्ध आतंकवादियों के जरिए रोहिंग्या मुसलमानों के किये जा रहे क़तलेआम पर अपनी ज़बान खोल दी है उनका कहना है कि चरमपंथी ये हिंसा अफवाहों के सहारे फैला रहे है और राज्य मुसलमानो की सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है ।

सूकी ने कहा कि उनका देश रख़ाइन प्रांत में रहने वाले सभी लोगों को बचाने की पूरी कोशिश कर रहा है। सूकी ने लंबी चुप्पी के बाद यह बयान दिया है हालांकि उन्होंने यह नहीं बताया कि उनका देश इन लोगों को बचाने  के लिए क्या कोशिश कर रहा है जबकि देश की सेना और सुरक्षा बल ही चरमपंथी बौद्धों के साथ मिलकर रोहिंग्या मुसलमानों का नरसंहार कर रहे हैं।

सूकी ने आरोप लगाया कि चरमपंथी तत्व अपने हित साधने के लिए ग़लत ख़बरें फैला रहे हैं। प्राप्त सुचना के मुताबिक सूकी ने ये बयान तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब अर्दोग़ान से टेलीफ़ोन पर बातचीत के बाद दिया है । याद रहे कि पिछले दिनों बर्मा में मुसलमानों के हो रहे नरसंहार पर तुर्की के राष्ट्रपति रज्जब तैयब उर्दगान ने कड़ी प्रतिक्रिया दी थी ।

पढ़ें – शरद यादव की राज्यसभा सदस्यता समाप्त करने के लिए जदयू नेताओं ने नायडू से की मुलाकात

सूकी लाख कहें कि ग़लत ख़बरें फैलाई जा रही हैं लेकिन रोहिंग्या मुसलमानों पर जो भयानक अत्याचार हो रहे हैं वह इतने स्पष्ट और दिल दहला देने वाले हैं कि संयुक्त राष्ट्र और इस्लामी देशों सहित विश्व के अनेक देशों और संस्थाओं की ओर से म्यांमार की सरकार की लगातर आलोचनाए की जा रही है।

संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव एंटोनियो गोटेरस ने कहा यहां तक कह दिया है कि यदि रोहिंग्या मुसलमानों का मामला हल न किया गया तो क्षेत्र के देशों में अस्थिरता फैल सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here