Team 07 गिरफ्तार, आतंकवाद को बढ़ाने का लगा आरोप

0
Team 07
Team 07 and Faisu

मुखबिर न्यूज: मशहूर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म टिक टॉक के मशहूर क्रिएटर टीम 07 को कल एक वीडियो डालने की वजह से गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस का आरोप है कि उन्होंने अपने वीडियो में कुछ ऐसे शब्द इस्तेमाल जो आतंकवाद को बढ़ावा देते हैं। मुम्बई पुलिस ने यह रिपोर्ट शिवसेना कार्यकर्ता रमेश सोलंकी की शिकायत पर दर्ज की है।

ज्ञात हो की मुदस्सिर फैसल उर्फ फैसु की इस वीडियो में कुछ भी आपत्तिजनक नहीं था बल्कि उन्होंने झारखंड में मारे गए तबरेज अंसारी के समर्थन में अपनी बात रखी थी उनका कहना था कि अगर कल तबरेज अंसारी का बच्चा अपने बाप का बदला लेगा तो लोग उसे आतंकवादी का नाम देंगे।

शिवसेना कार्यकर्ता रमेश सोलंकी ने फैसू और उनकी टीम के अन्य सदस्यों के  सदस्यों हसनैन खान, अदनान शेख, फैस बलूच इत्यादि के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। सोशल मीडिया पर आर एस एस कार्यकर्ताओं और हिंदूवादी संगठनों के भारी विरोध के चलते टीम 07 को वीडियो हटा कर माफी मांगनी पड़ी। टीम 07 ने अपनी इंस्टाग्राम पोस्ट करते हुए लिखा है कि उनका मकसद किसी की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाना नहीं था और अगर किसी को उनकी बातें बुरी लगी है तो वह उसके लिए माफी चाहते हैं।

Team 07
Team 07 and Faisu

कौन हैं फैसल उर्फ फैसू

सोशल मीडिया पर मिस्टर फैसू के नाम से मशहूर शेख मुदस्सिर फैसल इस समय टिक टॉक पर सबसे ज्यादा फॉलो किए जाने वाले भारतीय हैं उनके प्रशंसकों की संख्या 30 मिलियन से भी अधिक है और उनके इंस्टाग्राम पर 6 मिलियन से भी अधिक फॉलोअर है। पिछले दिनों उन्हें काफी लोकप्रियता हासिल हुई है हाल ही में ज़ी म्यूजिक के साथ उनका एक म्यूजिक एल्बम भी लांच हुआ था जिसे इस घटना के बाद हटा दिया गया है जी म्यूजिक का कहना है कि वह अब उनके साथ नहीं है।

सबसे नौजवान इंफ्लुएंसर

गौरतलब हो कि फेसबुक वर्तमान में भारत के 10 सबसे प्रभावित लोगों की लिस्ट में जगह दी गई है और वह इस समय भारत के सबसे कम उम्र के इंफ्लुएंसर हैं।

मामला साफ है कि इस मामले को सिर्फ हिंदू मुसलमान के नजरिए से देखा जा रहा है। फैसल सिद्दीकी की इस वीडियो की वजह से सरकार पर तबरेज के कातिलों पर कार्रवाई करने का दबाव बढ़ गया था ऐसे में प्रशासनिक दबाव के तहत वीडियो और उनके अकाउंट को डिलीट कर दिया गया ताकि तबरेज के समर्थन में उठने वाली आवाज को दबाया जा सके।

Team 07 का पक्ष

याद रहे कि फैसल ने इस वीडियो में किसी धर्म या समुदाय के खिलाफ कोई बात नहीं कही थी बल्कि उसने तबरेज का कत्ल करने वाले व्यक्ति के खिलाफ आवाज उठाई थी कि कल अगर उसे तबरेज़ का बेटा मार देगा तब आप उसे आतंकवादी मत कहिएगा। ये बिल्कुल उस मिसाल की तरह है कि कोई कहे की बलात्कार करने वाले को फांसी दे दो या चौराहे पर जिंदा जला दो। क्या किसी को बलात्कारी के लिए ऐसे शब्द प्रयोग करने की वजह से ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा और बलात्कारी को सजा नहीं दी जाएगी।

यहां सवाल तो ये भी है कि सिर्फ विरोध करने की वजह से फैसल सिद्दीकी को गिरफ्तार कर लिया गया लेकिन जिन लोगों ने तबरेज का कत्ल किया है या पूरे देश में सैकड़ों मुसलमानों की मॉब लिंचिंग हुई है उन पर कार्रवाई क्यों नहीं हुई और ऐसा करने वालों को सजा क्यों नहीं दी गई?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here