रोहंग्या मुसलमानों का उत्पीड़न सुन कर रोंगटे खड़े हो जाते है, संयुक्त राष्ट्र के महासचिव का बयान

0

न्यूयॉर्क: संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गोटरेस ने कल महासभा की बैठक को संबोधित करते हुए चेतावनी दी कि म्यांमार के मुस्लिम बहुल राज्य राखेन में स्थानीय मुसलमानों के खिलाफ राज्यिक हिंसा में कमी नहीं आई है जिससे और भी बुरी स्थित होने की आशंका है।

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव के मुताबिक अगर ऐसा ही चलता रहा तो अगले कुछ दिनों में 200000 से ज्यादा मुसलमान देश छोड़ने पर मजबूर हो जाएंगे। एंटोनियो गुटेरेस के मुताबिक रोहिंग्या मुसलमान इस वक्त बड़े ही बुरे हालात से गुजर रहे है और वहां से आने वाले बच्चों बोलो का दर्द सुनकर रोंगटे खड़े हो जाते हैं।

एंटोनियो के मुताबिक बर्मा में पिछले 8 साल से चल रहे इस गतिरोध को रोकना होगा और रोहिंग्या मुसलमानों की समस्याओं के हल के लिए हमें आपातकालीन निर्णय लेने होंगे। म्यांमार में धार्मिक आधार पर मुसलमानों का सफाया किया जा रहा है जिसे किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

संयुक्त राष्ट्र के सचिव का बयान उस वक्त आया है जब म्यामार हुकूमत के जरिए यूएन की सहसा लेकर गई टीम को मुस्लिम इलाकों में जाने से रोक दिया गया। संयुक्त राष्ट्र के जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक लगभग 5 लाख से अधिक मुसलमान रोहिंग्या को छोड़कर बांग्लादेश में शरण ले चुके है और यह जनसंख्या दिन ब दिन बढ़ती जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here